advertisement

प्रभु प्राप्ति और प्रभु की महिमा

प्रभु प्राप्ति और प्रभु की महिमा



प्रभु को पाने के लिए इस धरती पर  करोड़ों लोग हैं, अलग अलग तरीके से प्रभु को पाने की होड़ में लगे हुए हैं, आइए जानते हैं किस किस तरीके से लोग प्रभु प्राप्ति की राह पर चलते हैं |


पूरे विश्व में करोड़ों ही लोग पुजारी हैं, करोड़ों लोग धार्मिक रीति रिवाजों को मानने वाले हैं, करोड़ों लोग तीर्थ पर रहने वाले हैं, असंख्य लोग जंगलों में रहकर तब करते हैं, अनेक लोग वेदों को सुनने वाले हैं, अनेक लोग अपने अंदर सूरत को जोड़कर प्रभु मिलन की आस करते हैं, अनेक लोग नया नाम मंत्र लेकर प्रभु मिलन की आस रखते हैं, परंतु उस परमात्मा का निराकार परमात्मा का कोई पार नहीं पा सकता |


अनेकों लोग पत्थर दिल है, अनेकों लोग खुदगर्ज हैं, करोड़ों लोग दूसरों का धन चुराते हैं, असंख्य लोग दूसरों की निंदा करते हैं, जबकि करोड़ों लोग धन पदार्थ की खातिर मेहनत में लगे हुए हैं, अनेक लोग दूसरे देशों में भटक रहे हैं, हे मेरे प्यारे प्रभु आपने जिस इंसान को जिस काम के लिए लगाया हुआ है, उसी काम में लगा है |


असंख्य लोगों ने काम को अपने बस में किया हुआ है, असंख्य लोग इस का आनंद ले रहे हैं, हे प्रभु आपने अनेक ही पंछी और सांप बनाए हैं , असंख्य पत्थर और पेड़ लगाए हैं, करोड़ों हवा पानी आग है ,कई करोड़ चंद्रमा सूरज सितारे है, करोड़ो देवता और इंद्र है, सतो रजो और तमो गुणी है|


प्रभु आपने समुंद्र मे करोड़ो रतन पैदा कर दिए हैं, हे प्रभु आप ने करोड़ों जीव पताल में रहने वाले बनाए हैं |


हे प्रभु करोड़ों जीव जन्म लेते हैं, करोड़ों ही मर जाते हैं, करोड़ों जीव बैठे ही खाते हैं अनेकों जीव मेहनत करके थक जाते हैं |


करोड़ों जीव आपने धन दौलत वाले बनाए हैं और करोड़ों को ही धन का फिक्र लगा हुआ है, 


सत्संग के लाभ
PRABHU BHAGAT

आपने करोड़ों जीव वैसे बनाए हैं, जिनके सुरती हमेशा आप  में हीं लगी रहती हैं,  करोड़ों जीव आप को खोजते हैं, करोड़ों जीव आप को खोज रहे हैं, करोड़ों जीव आप के दर्शनों का दीदार चाहते हैं, हे प्रभु वह मनुष्य भाग्यशाली है जिस पर आप परमात्मा अपनी दया का हाथ रखते हैं |




हे मेरे प्रभु जी आप जहां-जहां चाहते हैं, वही वही जीव को रखते हैं, सब कुछ आपके ही हाथ में हैं,


हे मेरे प्यारे प्रभु आप की प्राप्ति भी आप की आज्ञा के बिना नहीं हो सकती । 

अपने बच्चो पे कृपा कीजिये और अपने चरणों की धूल बना लीजिये ।

हमे इस काबिल बनाइये की आपकी महिमा का गुणगान  तन मन धन से कर सके ।

आप के साथ अपनी सूरत को जोड़कर अपने जीवन को सार्थक कर सके ।

हे प्रभु आप ने करोड़ों ही जीव बनाए हैं, जिन की उत्पत्ति आप से ही होती है और वापस आप में ही लीन हो जाते हैं हे प्रभु आप का अंत कोई नहीं जान सकता |



हमे सुबह उठते ही परमात्मा का शुक्रिया अदा करना चाहिए । दोनों हाथ जोड़ कर उस मालिक को याद करना चाहिए और कहना चाहिए कि आप सबसे बड़ी ताकत है मै आप को याद करता हु । 

हे जीवन देने वाले प्रभु एक नई सुबह देने के लिए शुक्रिया, मेरा दिन शुभ हो , मंगलमय हो, मेरे अंग संग रहना, मै अपने आप को आप के हवाले करता हु ।



शुक्रिया प्रभु ,शुक्रिया प्रभु .......

Post a Comment

0 Comments