advertisement

सत्संग के लाभ

सत्संग के लाभ 

satsang in hindi,satsang satsang,satsang video mein,satsang bhajan,hindi satsang pravachan
satsang hindi mai,satsang katha,satsang channel,hindi satsang pravachan mp3,hindi pravachan
dharmik pravachan in hindi,pravachan video,satsang hindi bhajan,pravachan in hindi audio
hindi pravachan online,hindi mai pravachan


अगर हम अपने जीवन को आध्यात्मिकता से जोड़ना चाहते हैं, तो हमें संत जनों की संगत करनी चाहिए | हमें सत्संग का सहारा लेना चाहिए या हमें कोई अध्यात्मिक पुस्तक आध्यत्मिक विचारों से जुड़े रहना चाहिए |

आइए जानते हैं अगर हम इन सब चीजों से जुड़े रहेंगे तो हमें कौन-कौन से फल की प्राप्ति होगी :-

संत जनों की संगत से हमारे सारे विकार दूर हो जाते हैं |

संत जनों की संगत से हमारा अहंकार दूर होकर हमें श्रेष्ठ ज्ञान की प्राप्ति होती है |

संत जनों की संगत में प्रभु का वास होता है |

सत्संग से मनुष्य नाम रूपी रतन से जुड़ा रहता है |

संत जनों की संगत में रहकर हमें प्रभु मिलाप का एहसास होता है |

सत्संग या संत जनों की संगत से मनुष्य मीठे वचन बोलने लगता है |



संत जनों की संगत से मनुष्य का मन एक स्थान पर टिक जाता है |

सत्संग या संत जनों की संगत से हमारे जितने भी वेरी हैं, शत्रु है, वह हमारे मित्र बन जाते हैं |

संत जनों की संगत हमें कोई भी मनुष्य बुरा नहीं लगता, सभी उस परमात्मा की औलाद दिखाई देते हैं |

सत्संग या संत जनों संगत करने से मनुष्य का मन कभी भटकता नहीं |

संत जनों की संगत करने से हमें रामरतन धन मिल जाता है |


गुरमुख की संगत से हमें आत्मिक शांति की प्राप्ति होती है |


सत्संग में जाने से हमें सभी धर्मों में एक निरंकार परमात्मा को ही देखते हैं |


सत्संग या नेक राह पर चलने से हम अपनी अनेक पीढ़ियों या कुलो का बेड़ा पार लगा सकते हैं |


संत जनों की संगत करने से स्वयं धर्मराज भी आपके शोभा गाते है |

सत्संग जाने से हमारे सारे पाप मिट जाते हैं |


संत जनों की संगत से हमारा यह लोक और परलोक सुखी हो जाता है |


संत जनों की संगत से हमारे सारे संसार की इच्छाएं भी पूरी हो जाते हैं 

नेक संगत से हम हर वक्त प्रभु के नाम से जुड़े रहते हैं |


इसलिए हमे सत्संग और नेक संतो से जुड़े रहना चाहिए ताकि अपने जीवन को आध्यात्मिक राह पर ले जा सके ।



LIKE, SHARE & COMMENT PLZ


Post a Comment

0 Comments